in

इस समय जब हरियाणा सरकार सभी मोर्चों पर वैश्विक कोरोना महामारी की दूसरी लहर के खि…


इस समय जब हरियाणा सरकार सभी मोर्चों पर वैश्विक कोरोना महामारी की दूसरी लहर के खिलाफ कड़ी लड़ाई लड़ रही है, ऐसे समय में सूचना, जनसंपर्क एवं भाषा विभाग की भूमिका निश्चित रूप से बहुत महत्वपूर्ण है ताकि जमीनी स्तर पर तथ्यात्मक जानकारी पहुंचे और सकारात्मकता का माहौल पैदा हो।
यह बात मुख्यमंत्री के अतिरिक्त प्रधान सचिव और सूचना, जनसंपर्क एवं भाषा विभाग के महानिदेशक डॉ. अमित अग्रवाल ने आज यहां वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से संबंधित विभागों द्वारा की जा रही व्यवस्थाओं की समीक्षा के लिए सभी जिला सूचना एवं जनसंपर्क अधिकारियों की बैठक की अध्यक्षता करते हुए कही।
उन्होंने कहा कि यह चुनौतीपूर्ण समय है और इस संकट की घड़ी में सूचना एवं जनसंपर्क अधिकारियों को मीडिया के माध्यम से प्रामाणिक और सटीक जानकारी देकर राज्य के लोगों में सकारात्मक माहौल को बढ़ावा देने में सबसे महत्वपूर्ण भूमिका निभानी है।
श्री अमित अग्रवाल ने कहा कि मुख्यमंत्री से लेकर कोविड वॉरियर्स सहित सभी अधिकारी इस महामारी से निपटने के लिए कड़ी मेहनत के साथ कार्य कर रहे हैं। इसलिए सकारात्मक माहौल बनाना समय की आवश्यकता है और इसके लिए अथक प्रयास किए जाने चाहिए ।
उन्होंने कहा कि इस महामारी से निपटने के लिए राज्य सरकार द्वारा किए गए प्रयासों और व्यवस्थाओं की सही जानकारी आमजन तक पहुंचाने वाले पॉजिटिव समाचारों को तेजी से प्रसारित करने की सूचना, जनसंपर्क एवं भाषा विभाग की अत्यधिक जिम्मेदारी है।
डॉ अमित अग्रवाल ने कहा कि सोशल मीडिया पर प्रसारित होने वाली फर्जी और अप्रमाणिक खबरों पर निगरानी रखने की जरूरत है। सभी डीआईपीआरओ को फेसबुक पेज, ट्विटर, यूट्यूब, वेब पोर्टल, न्यूज चैनल और अन्य सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर कड़ी निगरानी रखनी चाहिए ताकि ‘फर्जी समाचार’ प्रसारित करने, सनसनी फैलाने और कोविड-19 के बारे में गलत सूचना फैलाने वालों पर लगाम लगाई जा सके ताकि लोगों में डर का माहौल पैदा होने से रोका जा सके।
उन्होंने कहा कि यदि सोशल मीडिया या किसी और माध्यम से प्राप्त कोई जानकारी भ्रामक या तथ्यों से परे है, तो तथ्यों के साथ सही जानकारी पर आधारित खबर समयबद्ध तरीके से जारी की जानी चाहिए।
उन्होंने कहा कि समाचार पत्रों, इलेक्ट्रॉनिक मीडिया और सोशल मीडिया के माध्यम से कोविड-19 के संबंध में सफलता और प्रेरणादायक कहानियों का प्रकाशन और प्रसार सुनिश्चित करने के लिए नियमित प्रयास किए जाने चाहिए।
उन्होंने कहा कि मीडियाकर्मियों के साथ समयबद्ध तरीके से अधिकतम जानकारी साझा करने के लिए एक कुशल प्रणाली सुनिश्चित की जानी चाहिए। इसके अलावा स्थानीय समाचार पत्रों विशेष रूप से इवनिंग समाचार पत्रों में प्रकाशित समाचारों की सतर्कता से जांच की जानी चाहिए ताकि संकट की इस घड़ी में राज्य के लोगों को तथ्यात्मक और सटीक जानकारी मिल सके।
उन्होंने कहा कि प्रत्येक अधिकारी यह सुनिश्चित करे कि कोई भी समाचार बिना आधिकारिक बयान के प्रकाशित या प्रसारित न हो। उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा किए जा रहे कार्यों व प्रयासों के बारे में दैनिक तथ्यात्मक अपडेट साझा करने के लिए मीडियाकर्मियों का एक व्हाट्सएप ग्रुप बनाया जाए।
डॉ. अग्रवाल ने विभाग के अधिकारियों से कोविड-19 महामारी के दौरान पूरी लगन से अपना कर्तव्य निभाने और सकारात्मक वातावरण बनाने में योगदान देने का आह्वान किया।
बैठक में सूचना, जनसंपर्क एवं भाषा विभाग की अतिरिक्त निदेशक (प्रशासन) श्रीमती वर्षा खंगवाल, संयुक्त निदेशक (प्रशासन) श्री अमन कुमार, अतिरिक्त निदेशक (फील्ड) श्री कुलदीप सैनी और संयुक्त निदेशक (प्रेस) श्रीमती नीरजा भल्ला सहित विभाग के अन्य अधिकारी उपस्थित थे।


Source

What do you think?