Friday, 17 September, 2021

BREAKING

दूध दही का खाना ये म्हारा हरियाणा !!News - Information - Entertainment

केयू की ऑनलाइन फीस रसीद में गोलमाल:छात्रों ने रसीद से की छेड़छाड़, बिना जांच जारी हो रहे रोल नंबर, विवि को नुकसान

कुरुक्षेत्र यूनिवर्सिटी की ऑनलाइन फीस रसीद में कई विद्यार्थी गोलमाल कर यूनिवर्सिटी प्रशासन को चूना लगा रहे हैं। दरअसल कुरुक्षेत्र यूनिवर्सिटी में परीक्षा फार्म ऑफलाइन जमा होते हैं और फीस ऑनलाइन कट जाती है। ऑनलाइन कम फीस भरकर कुछ विद्यार्थी पीडीएफ में एडिट करके रसीद में गड़बड़ कर देते हैं। केयू परीक्षा शाखा विद्यार्थियों की ओर से परीक्षा फार्म जमा होने पर रोल नंबर जारी कर देती है। ऐसे में बिना फीस की वेरिफिकेशन के ही विद्यार्थियों को रोल नंबर मिल जाता है और विद्यार्थी यूनिवर्सिटी प्रशासन के साथ ठगी कर जाते हैं।

केयू परीक्षा शाखा की ओर से इसी तरह की कुछ फर्जी रसीद को पकड़ा गया है जिसके आधार पर केयू कुलपति की ओर से इस पूरे मामले की जांच के लिए कमेटी गठित की गई है ताकि इस मामले से जुड़े लोगों का पता लगाया जा सके और उनके खिलाफ कार्रवाई की जा सके। केयू परीक्षा शाखा में परीक्षाओं से कुछ दिन पहले तक भी लेट फीस के साथ परीक्षा फार्म जमा होते रहते हैं।

इन परीक्षा फार्म की आड़ में कुछ शरारती तत्व जुर्माने के तौर पर लगी मोटी फीस चुकाने की बजाय फर्जी रसीद तैयार कर लेते हैं। केयू प्रशासन की ओर से दिए गए गोल्डन मर्सी चांस में भी इस तरह की कुछ फर्जी रसीद मिलने की बात सामने आई है। केयू प्रशासन की ओर से गोल्डन मर्सी चांस के लिए 20 हजार रुपए की फीस निर्धारित की गई थी। केयू परीक्षा शाखा के अधिकारियों की ओर से फीस रसीद में गड़बड़ी की शिकायत आने के बाद केयू कुलपति ने खुद वित्त विभाग का निरीक्षण किया था।

फर्जीवाड़ा रोकने को ऑनलाइन ही जमा होंगे परीक्षा फार्म
केयू कुलपति प्रो. सोमनाथ सचदेवा ने कहा कि विद्यार्थियों को सुविधा देने और किसी भी तरह का फर्जीवाड़ा रोकने के लिए प्रशासन ने अब ऑनलाइन ही परीक्षा फार्म जमा करवाने का फैसला लिया है। उन्होंने कहा कि इससे विद्यार्थियों की फीस आदि की जांच समय रहते की जा सकेगी। उन्होंने कहा कि यूनिवर्सिटी प्रशासन का प्रयास है कि पूरी पारदर्शिता के साथ काम हो। प्रो. सचदेवा ने बताया कि केयू परीक्षा शाखा के अधिकारियों की ओर से कुछ फर्जी रसीदों की शिकायत उन्हें मिली थी। इस पूरे मामले की जांच के लिए कमेटी गठित की गई है। कमेटी इस मामले की जांच कर रही है। इस मामले में आगामी कार्रवाई कमेटी की जांच रिपोर्ट के आधार पर की जाएगी।

Scroll to Top