in

पढ़िए हरियाणा के बेटे, महान कब्बडी खिलाडी अनूप कुमार के जीवन के बारे में यह बातें

हरियाणा राज्य से कई महान खिलाड़ी निकले हैं व उन्होंने भारत का नाम रोशन करने व देश को पुरस्कार दिलाने में हर मुमकिन कोशिश की है। आप देख सकते हैं कि हरियाणवी खिलाड़ियों की लिस्ट बड़ी लंबी है, जिनमें कई महान नाम आते हैं।

ऐसे ही हम नाम ले सकते हैं अनूप कुमार का। जी हां, कबड्डी की दुनिया में अनूप कुमार एक जाना माना नाम है व इन्होंने भी देश का नाम रोशन करने में कोई कसर नहीं छोड़ी। आज हम बात करने जा रहे हैं अनूप कुमार के जीवन से जुड़ी कुछ बातों के बारे में। यदि आप भी जानने को उत्सुक है तो बिना किसी देरी के चलिए इस पूरे लेख के साथ।

1.  जन्म व माता पिता

अनूप कुमार एक भारतीय हरियाणवी महान कबड्डी खिलाड़ी है। अब यदि बात करें उनके जन्म के बारे में तो उनका जन्म 20 नवंबर 1983 में पलरा गुड़गांव में हुआ था। वह हरियाणा में ही पैदा हुए और वही पले बढ़े। उनके पिताजी का नाम चरण सिंह यादव है, और बात करे उनकी माता जी की तो उनकी माता जी का नाम बालों देवी है।

वहीं कबड्डी का खेल उनको बचपन से ही बहुत पसंद था और वह अक्सर अपने स्कूल के दिनों के दौरान कबड्डी खेला करते थे।

2. प्रो कबड्डी में यू मुंबा से जुड़े खेल

अनूप कुमार ने प्रो कबड्डी लीग में यू मुंबा टीम के कप्तान की भूमिका निभाई थी। सरल शब्दों में कहें तो वह 2014 में प्रो कबड्डी लीग में यू मुंबा टीम के कप्तान थे और उन्होंने लीग के पहले सीजन में सबसे अच्छे खिलाड़ी का पुरस्कार जीता, जिससे कि उनकी टीम फाइनल में पहुंच गई थी।

इसके साथ ही प्रो कबड्डी के सबसे सफल रेडर बनने के लिए उन्होंने 16 मैचों में 155 अंक बनाए। 2015 में उन्होंने यू मुंबा का नेतृत्व किया जिसमें उन्होंने 74 रेड अंक के साथ सीजन को खत्म किया व उन्होंने फाइनल्स में बेंगलुरु बुल्स को हराया।

2016, में भी लगातार उनके खेल चलते रहे और 2017 सीजन 5 में अनूप कुमार प्रो कबड्डी में 400 रेड पॉइंट पूरे करने वाले पहले खिलाड़ी बने।

 3. प्रो कबड्डी में जयपुर पिंक पैंथर्स से जुड़े खेल

बात करें यदि जयपुर पिंक पैंथर से जुड़े उनके खेलों की तो 2018 से 19 में सीजन 6 में, अनूप कुमार को उनकी पूर्व फ्रेंचाइजी यू मुंबा ने रिलीज किया था। नीलामी में अभिषेक बच्चन के स्वामित्व वाली फ्रेंचाइजी जयपुर पिंक पैंथर ने उन्हें 30 लाख में अपने में ले लिया था।

4. कबड्डी से संन्यास की घोषणा

यह तो सब जानते हैं कि हर खिलाड़ी किसी न किसी दिन खेल से संन्यास लेता है। लेकिन अब बात करें अनूप कुमार की तो 19 दिसंबर 2018 को उन्होंने खेल में 15 साल पूरे करने के बाद कब्बड्डी से संन्यास लेने का फैसला बना लिया था व इसी दिन उन्होंने 19 दिसंबर 2018 को कबड्डी से अपने संन्यास की घोषणा कर दी थीं।

5. अंतरराष्ट्रीय कैरियर व वर्तमान

अनूप कुमार ने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी काफी अच्छा प्रदर्शन किया है। बात करें यदि 2010 की तो 2010 और 2014 एशियाई खेलों में उन्होंने कबड्डी में स्वर्ण पदक जीता व 2016 में भी उन्होंने दक्षिण एशियाई खेलों में कबड्डी में स्वर्ण पदक जीता था। इसके साथ ही उन्होंने भारतीय राष्ट्रीय कबड्डी टीम की कप्तानी की और 2016 में तीसरा कबड्डी विश्व कप जीता।

कोई संदेह नहीं की अनूप कुमार ने कबड्डी में एक अच्छा नाम कमाया है। अब बात करे उनके वर्तमान की तो उनका एक अच्छा लाइफ़स्टाइल है व फिलहाल वह प्रो कबड्डी लीग सीजन 7 में पुनेरी पलटन के कोच है।

This post was created with our nice and easy submission form. Create your post!

What do you think?