in

महात्मा गाँधी जी के जीवन से जुड़े कुछ अनसुने तथ्य, जरूर जाने यह विशेष बाते

भारत वीरो की  धरती है इस बात में कोई शक नहीं है व प्राचीन समय से लेकर आज भी आप बड़े बड़े योद्धाओ की सच्ची कहानिया देख सकते है। सदियों से लेकर आधुनिक युग तक भारत देश में ऐसी कई जानी मानी हस्तिया है जिनका नाम इतिहास के पन्नो में स्वर्ण अक्षरों में लिखा हुआ है।

उनमे से एक नाम है महात्मा गाँधी। इसमें को शक नहीं की महात्मा गाँधी का नाम व उनके जीवन से जुडी कथा भारत देश का बच्चा बच्चा जानता है। परन्तु अभी भी कुछ ऐसी बात है जो काफी लोगो के लिए अनसुनी है। तो आज के इस लेख में हम बात करने जा रहे है महात्मा गाँधी जी के जीवन से जुड़े कुछ ऐसे तथ्यो की जो आपको अवश्य जानने चाहिए। तो बिना किसी विचार के चलिए इस लेख के साथ।

#1 अहिंसा दिवस

महात्मा गांधी जी भारत के एक जाने-माने नाम में से एक है व यह नाम इतिहास के पन्नों में स्वर्ण अक्षरों में लिखा हुआ है अब हम बात करें गांधी जी से जुड़े एक तथ्य की तो हम इस बिंदु को ले सकते हैं। यह तो सब जानते हैं कि गांधी जी का जन्म 2 अक्टूबर 1869 को हुआ था।

लेकिन एक और बात जिसे काफी लोग नहीं जानते है और वो यह की 2 अक्टूबर को न केवल गांधी जयंती बल्कि पूरी दुनिया में अंतरराष्ट्रीय अहिंसा दिवस के रूप में मनाया जाता है। जी हां, 2 अक्टूबर जिस दिन गांधी जी का जन्म हुआ था उस दिन को पूरी दुनिया में अंतरराष्ट्रीय अहिंसा दिवस माना जाता है। सब लोग इसे अहिंसा दिवस के रूप में मनाते हैं।

#2 बिना सिले खादी कपड़े

महात्मा गांधी एक सादा जीवन जीते थे व अक्सर आपने उनकी तस्वीरों में देखा होगा कि वे खादी के बिना सिले हुए कपड़े पहनते थे। वे ऐसा समानता दर्शाने के लिए करते थे और उनका मत था कि वह अपने पूरे शरीर को तभी ढकेंगे जब इस देश के 40 करोड उनके भाई और बहनों को तन ढकने के लिए पूरा कपड़ा मिलेगा।

इसके साथ ही उनका मत यह भी था कि लोगों को अपने देश में बने कपड़े पहनने चाहिए अर्थात वे स्वदेशी अपनाने पर बहुत जोर देते थे।

#3 नोबेल पुरस्कार

महात्मा गांधी के विचार व उनका जीवन बहुत ही महान था। पर यदि बात करें हम उनसे जुड़े नोबेल पुरस्कार की तो महात्मा गांधी को नोबेल पुरस्कार नहीं मिल सका लेकिन आज भी दुनिया में आप ऐसे कई नेताओ के नाम देख सकते हैं जिन को नोबेल पुरस्कार मिला है और उनकी विचारधारा अशांत या पूर्णता गांधी के सिद्धांतों से जुड़ी हुई है।

इसके साथ ही महात्मा गांधी को नोबेल पुरस्कार के लिए पांच बार नामित किया गया था। पर इसके बाद गांधी जी को नोबेल पुरस्कार न मिलने के लिए नोबेल कमेटी ने इस बात पर काफी अफसोस भी जाहिर किया था।

#4 प्रथम विश्व युद्ध में इंग्लैंड का समर्थन

विश्व युद्ध के बारे में भला सारी दुनिया जानती है पर यदि बात करें हम महात्मा गांधी द्वारा किए गए प्रथम विश्व युद्ध में इंग्लैंड के समर्थन की तो इसके पीछे की वजह वाकई जानने लायक थी। महात्मा गांधी ने प्रथम विश्वयुद्ध में इंग्लैंड का समर्थन इसलिए किया था क्योंकि इंग्लैंड ने उनसे इस प्रकार का वादा किया था कि वे प्रथम विश्व युद्ध की समाप्ति के बाद भारत को स्वतंत्र कर देगा।

ऐसा न होने पर ही महात्मा गांधी ने 1920 में असहयोग आंदोलन की शुरुआत की थी। पर प्रथम असहयोग आंदोलन को उन्होंने चोरी-चोड़ा में हुए हिंसक कृत्य के बाद 1921 में स्थगित कर दिया था।

#5 गांधी से जुड़ी सड़के

 महात्मा गांधी का नाम विश्वभर में प्रसिद्ध है पर यदि बात करें महात्मा गांधी के जीवन से जुड़े एक अन्य तथ्य की तो यह बिंदु पर्याप्त है। भारत सहित दुनिया के कई देशों में सड़कों के नाम महात्मा गांधी के नाम पर आधारित है। जी हां, यदि संख्या में बात करें तो भारत में महात्मा गांधी के नाम पर सड़कों की संख्या लगभग 53 है और वहीं दूसरी ओर यदि विदेशों की बात करें तो लगभग 48 सड़क का नामकरण गांधी के नाम पर है। यह वाकई एक जानने लायक बात है।

#6 अल्बर्ट आइंस्टीन

महात्मा गांधी जी के विचार अलग थे और वह काफी अलग सोच रखते थे। जैसे कि उनकी कद काठी समान्य थी परन्तु फिर भी वे फुटबाल खेल से बहुत लगाव रखते थे।  अब यदि बात करें हम महात्मा गांधी के जीवन के बारे में एक अन्य तथ्य कि तो हम इस बिंदु को ले सकते हैं।

हम बात कर रहे हैं अल्बर्ट आइंस्टाइन की और आपको बताना चाहेंगे कि अल्बर्ट आइंस्टीन ने महात्मा गांधी जी को आने वाली पीढ़ियों के लिए एक प्रेरणा स्त्रोत बताया था। जो की वाकई एक गर्व की बात थी।

आशा करते है की महात्मा गाँधी जी के जीवन से जुडा यह लेख आपको पंसद आया होगा।

This post was created with our nice and easy submission form. Create your post!

What do you think?