Friday, 17 September, 2021

BREAKING

दूध दही का खाना ये म्हारा हरियाणा !!News - Information - Entertainment

लोक अदालत का आयोजन:नहीं हो सका 475 किसानों के क्राॅप लोन का निपटारा, ब्याज सहित राशि 20 करोड़ पहुंची

यूनियन बैंक से जिन 475 किसानाें के नाम पर साल 2014 में क्रॉप लोन लिया गया था। शनिवार को उन्हें निपटारे के लिए लोक अदालत में बुलाया गया। जहां एक भी मामले का निपटारा नहीं हो सका। किसानों का कहना है कि लोन की रकम उनके पास नहीं, बल्कि शुगर मिल के पास है। मिल की काॅर्पोरेट गारंटी पर उनके नाम पर 3-3 लाख का लोन लिया गया था। मिल ने यह लोन नहीं चुकाया है। लोन की रकम ब्याज सहित करीब 20 करोड़ रुपए हो चुकी है।

साल 2011 में भी शुगर मिल ने किसानों के नाम पर क्रॉप लोन लिया था। उस समय भी यह मामला काफी चर्चा में रहा था। यह मामला अभी ठंडा भी नहीं हुआ था कि यूनियन बैंक की नारायणगढ़ शाखा से 475 किसानों के नाम पर 3-3 लाख रुपए का क्रॉप लोन लिया गया। अब 7 साल के बाद यूनियन बैंक ब्याज सहित अपना पैसा किसानों से वापस मांग रहा है।

बेशक शुगर मिल काॅर्पोरेट गारंटर थी, लेकिन बैंक ने लोन की राशि किसानों के खाते में डाली थी। किसानों ने कहा कि पहले ही मिल प्रबंधन गन्ने की बकाया पेमेंट नहीं दे रहा है, जिस कारण उनकी आर्थिक स्थिति बिगड़ गई है। वहीं बैंक लोन की रिकवरी के लिए परेशान कर रहा है। इस मामले को किसान 14 सितंबर को भाकियू के सामने रखेंगे।

6 हजार के लालच में 3 लाख का कर्ज

किसानों का कहना है कि उनकी मर्जी से बैंक ने क्रॉप लोन किया, लेकिन यह राशि उन्होंने बैंक से निकलवाकर मिल के अधिकारियों को सौंप दी थी। इसके बदले उन्हें 6 हजार रुपए मिले थे। किसानों के नाम पर क्रॉप लोन का खेल नया नहीं था। यह सिलसिला काफी सालों से चलता रहा है। इसलिए किसान क्रॉप लोन के लिए तैयार हो गए थे।

Scroll to Top