Friday, 17 September, 2021

BREAKING

दूध दही का खाना ये म्हारा हरियाणा !!News - Information - Entertainment

वामन द्वादशी मेला:इस बार हिंडोले सजेंगे लेकिन नाैरंग राय तालाब में नहीं तैरेंगे

वामन द्वादशी मेले के लिए श्री सनातन धर्म सभा काे परमिशन मिल गई है। 15 से 17 सितंबर तक धार्मिक अनुष्ठानों के साथ मेले का आयाेजन किया जाएगा लेकिन इस बार भी बेड़े में हिंडाेलाें काे नाैरंग राय तालाब में परिक्रमा नहीं करवाई जाएगी, क्याेंकि नाैरंग राय तालाब के जीर्णोद्धार का काम अभी पूरा नहीं हुआ है। प्रधान जीतराम ने बताया कि मेले का आयाेजन धार्मिक विधि-विधान से किया जाएगा। काेराेना के चलते हुए प्रशासन की दिशा-निर्देशानुसार मेले का आयाेजन किया जाएगा।

इस बार हिंडोले सजेंगे। कंधाें पर हिंडाेलाें काे लेकर अनाज मंडी में 15 सितंबर काे स्थापित किया जाएगा। 17 सितंबर काे सभी हिंडाेलाें काे नाैरंगराय तालाब के बाहर से ही परिक्रमा करवाई जाएगी। हिंडाेलाें काे इस साल भी बेड़े पर विराजमान कर नाैरंगराय तालाब में नहीं तैराया जाएगा। काेराेना के कारण पिछले साल भी नहीं तैराया गया था।

गाैरतलब है कि नाैरंगराय के तालाब का जीर्णोद्धार का काम चल रहा है लेकिन अब बजट की कमी से काम रुका पड़ा है। मेला कमेटी में कनवीनर सेठ मदन लाल अग्रवाल, नरेश अग्रवाल, सचिव विनाेद गर्ग, काेषाध्यक्ष सुरेश बंसल, उपप्रधान कुलभूषण गाेयल, संयुक्त सचिव अविनाश सिंगला, सदस्य विरेंद्र अग्रवाल व सनातन धर्म सभा के सदस्य जुड़े हुए हैं।

अधर में अटका पड़ा है प्राेजेक्ट

17 सितंबर काे वामन द्वादशी है। शहर का यह सबसे बड़ा मेला है। इस 3 दिवसीय मेले के आखिरी दिन मंंदिर से निकलने वाले हिंडाेलाें में भगवान की सवारी काे नाैरंग राय तालाब में परिक्रमा दिलवाई जाती है। तालाब काे टूरिज्म स्थान की मान्यता देने के बाद 2016-17 में इसके जीर्णोद्धार का काम शुरू हुआ था, जाे 2019 में पूरा हाेना था लेकिन फंड की कमी से काम लटक गया।

Scroll to Top