in

विज ने उठाया ऑक्सीजन अलॉटमेंट में भेदभाव का मुद्दा

कोरोना के चलते जहां एक लोग महामारी से जंग लड़ रहे है वही दूसरी और हर राज्य अपने लिए ज्यादा ऑक्सीजन मांग रहा है ताकि मरीजों को जरूरी सुविधाओं  देकर जल्द से जल्द ठीक किया जा सके। परन्तु ऑक्सीजन की सप्लाई को लेकर भी भेदभाव की बातें भी सामने आने लगी हैं।

जी हाँ, अब नया विवाद हरियाणा और दिल्ली के ऑक्सीजन कोटे को लेकर सामने आया है। हरियाणा में एक्टिव केस ज्यादा होने के बावजूद भी प्रदेश को दिल्ली के मुकाबले 60 फीसदी ही ऑक्सीजन अलॉट हो रखी है। यह भी अभी तक कभी पूरी नहीं मिली।

स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने यह मुद्दा केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन के सामने रखा। उन्होंने कहा कि हरियाणा में इस वक्त एक लाख आठ हजार सक्रिय मरीज हैं, जबकि दिल्ली में 85 हजार ही हैं। इतना ही नहीं हरियाणा में दिल्ली के मरीज भी आ रहे हैं, जिनके उपचार की व्यवस्था भी हम कर रहे हैं।

इसके लिए अतिरिक्त बेड्स बढ़ाने पड़ रहे हैं। इसके बावजूद दिल्ली को 700 एमटी ऑक्सीजन दी हुई है और हरियाणा को केवल 282 एमटी कोटा मिला है। नियमानुसार देखा जाए तो हरियाणा में इस वक्त 400 एमटी ऑक्सीजन की जरूरत है। इसके साथ ही स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि ऑक्सीजन का दोबारा वितरण किए जाने की आवश्यकता है।

This post was created with our nice and easy submission form. Create your post!

What do you think?