in

साइना नेहवाल के जीवन से जुडी यह बाते, जरूर पढ़िए

खेल और खिलाड़ी हरियाणा के लिए एक बहुत ही महत्वपूर्ण चीज है व हरियाणा राज्य ने भारत देश को बहुत ही खास खिलाड़ी दिए है। जैसे कि हम नाम ले सकते हैं साइना नेहवाल का। जी हां, साइना नेहवाल हरियाणा के खेलों को लेकर काफी जानी मानी जाती है व इन्होंने हरियाणा का नाम काफी रोशन किया है। आज इस लेख में हम बात करने जा रहे हैं साइना नेहवाल के जीवन से जुड़े कुछ तथ्यों की। तो लीजिए अपना समय और चलिए हमारे साथ।

1.  जन्म व माता पिता

साइना नेहवाल हरियाणा की एक प्रसिद्ध बैडमिंटन खिलाड़ी हैं। बात करे यदि उनके जन्म की तो उनका जन्म 17 मार्च 1990 में हिसार हरियाणा के एक हिंदू परिवार में हुआ था। वहीं इनके पिताजी का नाम डॉक्टर हरवीर सिंह नेहावाल और माताजी का नाम उषा नेहवाल है। वही बात करें इनके माता-पिता जी के बारे में तो वह हरियाणा राज्य स्तर पर बैडमिंटन चैंपियन रहे हैं। साइना की एक बहन भी है जिसका नाम अबू चंद्रांशु नेहवाल है।

2. साइना नेहवाल की शिक्षा 

शिक्षा जीवन के लिए बहुत महत्वपूर्ण मानी जाती है व साइना नेहवाल के पिताजी ने कृषि विज्ञान में पीएचडी की है व चौधरी चरण सिंह कृषि विश्वविद्यालय हरियाणा में काम किया। यदि हम बात करे साइना नेहवाल की शिक्षा की तो, उन्होंने कैंपस स्कूल CCS HAU, हिसार में स्कूली शिक्षा के पहले कुछ साल पूरे किए।

3. साइना नेहवाल का करियर 

यह कहने में कोई शक नहीं की साइना नेहवाल ने अपने करियर को एक खास पहचान दी हैं। वह एक भारतीय बैडमिंटन खिलाडी है और उनके माता पिता भी स्टेट लेवल के अच्छे बैडमिंटन खिलाडी रहे है। साइना मात्र 8 से 9 साल की उम्र में ही बैडमिंटन के रास्तों पर चल पड़ी थी।

अर्थात, उन्हें इतनी छोटी उम्र में ही बैडमिंटन का शौक हो गया था। जिसके बाद उनके पिता जी का ट्रान्सफर हैदराबाद हो गया व वहां साइना को भी साथ लेकर चले गए। उन्होंने उसको वहां पे लाल बहादुर स्टेडियम में कोच नानी पार्षद से ट्रेनिंग दिलवाई।

जिसके बाद साइना ने 2004 कॉमनवेल्थ यूथ गेम्स में अपने जीवन का पहला मैच खेला व दूसरा स्थान प्राप्त किया। इसके बाद उन्होंने 2005 से 2006 में एशियन सेटेलाइट बैडमिंटन टूर्नामेंट जीता और जिसके चलते वह इस टूर्नामेंट को जितने वाली पहली अंडर-19 खिलाड़ी बन गई।

वहीं यदि बात करें उनकी इंटरनेशनल मैच की तो उन्होंने इंटरनेशनल मैच खेलना शुरू किया तब उनके कोच बने पुल्लेला गोपीचंद। इसके बाद वह कई इंटरनेशनल मैच जीत बैडमिंटन की नंबर वन खिलाड़ी बनी।

4. साइना नेहवाल द्वारा जीते गए अवॉर्ड्स

साइना नेहवाल ने विश्व भर में बैडमिंटन के चलते काफी नाम बनाया है और वह वाकई एक अच्छी बैडमिंटन खिलाड़ी है। पर यदि बात करें उनको मिले अवॉर्ड्स कि तो 2016 में उन्हें पदम भूषण पुरस्कार भारत सरकार की तरफ से मिला।

वहीं 2018 में उन्होंने मेलबर्न में राष्ट्रीय मंडल खेलों में कांस्य पदक जीता व उन्होंने एशियाई बैडमिंटन चैंपियनशिप में भी कांस्य पदक जीता। वह पहली भारतीय महिला है, जो की बैडमिंटन वर्ल्ड फेडेरशन में महिला एकल में प्रथम स्थान पे रही।

This post was created with our nice and easy submission form. Create your post!

What do you think?