Friday, 17 September, 2021

BREAKING

दूध दही का खाना ये म्हारा हरियाणा !!News - Information - Entertainment

सुविधा:पीजीआई से अब ब्रेन ट्यूमर के मरीज नहीं होंगे रेफर, इंट्रा ऑपरेटिव नर्व मॉनीटरिंग सिस्टम से 4 की बजाय 3 घंटे में होगी सफल सर्जरी

पीजीआई के न्यूरोसर्जरी में आने वाले रोगियों के लिए राहत की खबर है। अब यहां ब्रेन ट्यूमर व रीढ़ की हड्डी पर लगी गंभीर चोटों का इलाज अत्याधुनिक मशीनों से संभव होगा। पीजीआई में पिछले काफी समय से ब्रेन ट्यूमर के इलाज में काम आने वाली अत्याधुनिक मशीनों की कमी बनी हुई थी। इसकी वजह से ऐसे मरीजों को निजी अस्पतालों में रेफर किया जाता था। न्यूरोसर्जरी विभाग में अब इंट्रा ऑपरेटिव नर्व मॉनिटरिंग सिस्टम स्थापित किया गया है।

न्यूरो सर्जरी विभाग के हेड डॉ. ईश्वर सिंह ने बुधवार को बताया कि इस मॉनिटरिंग सिस्टम के आने से चिकित्सकों को ब्रेन ट्यूमर के मरीज के इलाज में आसानी हो सकेगी। क्योंकि ऑपरेशन के दौरान नर्व व टिश्यू का अलग-अलग पता नहीं चलता था। यह सिस्टम ऑपरेशन के दौरान लगातार चलता रहेगा। सर्जरी में यदि चिकित्सक गलती से नर्व के पास या ब्रेन के पास पहुंच जाता है तो यह मशीन बीप के साथ ही अलर्ट करेगी। चिकित्सक आसानी से सामान्य तंत्रिका संरचना का पता लगा सकता है, जिससे मरीज का आसानी से सफल ऑपरेशन हाे सकेगा।

प्रदेश के सरकारी अस्पतालों में केवल पीजीआई में ही ये सुविधा

डॉ. ईश्वर सिंह ने बताया कि यह मशीन पूरे हरियाणा के सरकारी अस्पतालों में पहली बार पीजीआई में उपलब्ध हुई है। विभाग को एक इलेक्ट्रिक ड्रिल मशीन मिली है, जिससे अब वे आसानी से ड्रिल कर सकेंगे, जोकि पहले हाथ से ड्रिल बनाने पड़ते थे। उन्होंने कहा कि इसका सीधा फायदा मरीज को मिलेगा, क्योंकि जो ऑपरेशन पहले करीब 4 घंटे चलता था। वह अब 3 घंटे से भी कम समय में पूरा हो जाएगा।

वहीं, ट्रॉमा सेंटर के लिए भी एक न्यूरो सर्जिकल ड्रिल आई है। विभाग को सी-आर्म मशीन भी मिली है, जो स्पाइन सर्जरी में एक्स-रे करने में मदद करती है, क्योंकि इसमें स्पाइन डिसऑर्डर को लोकलाइज्ड करना होता है। उन्होंने बताया कि यह मशीन इंट्राआप्रेटिव इंप्लांट दिखाती है। इसके साथ ही इसमें डीएसए की भी सुविधा है।

Scroll to Top