in

हरियाणा के बिजली एवं अक्षय ऊर्जा मंत्री श्री रणजीत सिंह ने संबंधित अधिकारियों को…


हरियाणा के बिजली एवं अक्षय ऊर्जा मंत्री श्री रणजीत सिंह ने संबंधित अधिकारियों को फतेहाबाद-सिरसा सर्कल में नये नलकूप कनेक्शन समयबद्ध तरीके से देने के कार्य में तेजी लाने के निर्देश दिये हैं। वे आज यहां फतेहाबाद-सिरसा सर्कल में बिजली के खंभों की व्यवस्था करने और पानी के नये नलकूप कनेक्शन देने के संबंध में बिजली विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे। बैठक में गुरुग्राम और पंचकूला को निर्बाध बिजली देने के संबंध में हो रहे कार्यों की भी समीक्षा की गई।
बैठक में बिजली मंत्री की उपस्थिति में बिजली विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री पी.के. दास ने बताया कि संबंधित अधिकारियों को कार्य स्थलों पर श्रमिकों की संख्या बढ़ाने के निर्देश दिए गए है ताकि जुलाई माह के अंत तक इस कार्य को किया जा सके। कार्य की गुणवत्ता सुनिश्चित करने के लिए कनिष्ठ अभियांत्रिकी एवं सेवानिवृत्त एसडीओ खंभों के निर्माण कार्य का निरीक्षण करेंगे। बैठक के दौरान उन्होंने अधिकारियों को खंभों के निर्माण कार्य के बाद वायरिंग और कनेक्शन के काम में तेजी लाने के भी निर्देश दिए।
श्री दास ने अधिकारियों को खड़े खंभों की स्थिरता की तकनीकी रूप से जांच करने के लिए कहा ताकि किसानों को किसी भी तरह की असुविधा का सामना न करना पड़े। उन्होंने कहा कि बिजली कार्यालय के कर्मी नियमित रूप से कार्य स्थलों पर आवश्यक जनशक्ति के अतिरिक्त उपयोग किए जाने वाले उपकरण एवं सामग्री को भी सुनिश्चित करेंगे। उन्होंने अधिकारियों को जुलाई माह के अंत तक इस काम को पूरा करने के लिए मैनपावर बढ़ाने के भी निर्देश दिए।
बैठक के उपरांत बिजली मंत्री ने मीडिया को संबोधित करते हुए बताया कि बैठक में गुरुग्राम और पंचकूला को निर्बाध बिजली देने के संबंध में हो रहे कार्यों की भी समीक्षा की गई। पहले इन दो शहरों को मॉडल के तौर बिना किसी कट के बिजली देने और इन्वर्टर मुक्त शहर बनाने का लक्ष्य रखा गया है। हमारा प्रयास है कि बिजली कट के कारणों को एडवांस में दूर किया जाए ताकि बिना कट व अबाधित 24 घंटे बिजली मिल सके। इसमें चाहे खराब ट्रांसफार्मर, बिजली की तारें, पेड़ आदि की समस्याएं हैं, उन सभी को एडवांस में ठीक रखा जाए। उन्होंने बताया कि जून-जुलाई के महीने में तेज आंधी और बारिश के कारण खंबे ज्यादा टूटते है, इसलिए अब सभी खंबों पर मार्किंग की जा रही हैं ताकि किसी प्रकार की दिक्कत न हो। बिजली मंत्री ने बताया कि इन दो शहरों में ये प्रयोग जब सफल हो जाएगा तो इसे पूरे हरियाणा में लागू किया जाएगा।
उन्होंने कहा कि हमारा लक्ष्य पूरे हरियाणा को 24 घंटे बिजली देने का है, इस दिशा में आगे बढ़ते हुए हम करीब 5300 गांवों को 24 घंटे बिजली दे रहे हैं। हरियाणा औद्योगिक क्षेत्र में बिजली उपलब्ध करवाने में देश के अग्रणी राज्यों में है और हमारी कोशिश है कि 6 महीने के भीतर हरियाणा के सभी किसानों को उनके ट्यूबवेल के कनेक्शन दे दिए जाएं। इसी कड़ी में फतेहाबाद व सिरसा जिले में जुलाई के अंत तक कनेक्शन दे दिए जाएंगे।
उन्होंने कहा कि किसानों द्वारा करीब 50 हजार ट्यूबवेल के कनेक्शन के लिए आवेदन किए गए थे, जिनमें से करीब 35 हजार कनेक्शन दे दिए गए हैं और बाकी भी जल्द दिए जाएंगे। उन्होंने कहा कि किसानों की एक बड़ी दिक्कत का निवारण करते हुए राज्य सरकार ने ट्यूबवेल की मोटर बनाने वाली 7 कंपनियों को स्वीकृति प्रदान कर दी है, जिनसे सीधे किसान अपनी मोटर खरीद कर लगा सकते हैं। उन्होंने कहा धान की फसल के दौरान बिजली की खपत ज्यादा होती है, इसकी भी पहले से तैयारी कर ली है।
इस बैठक में बिजली विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री पी के दास, निदेशक(प्रोजक्ट) श्री वीरेंद्र सिंह मान, निदेशक (ऑपरेशन) श्री संजय बंसल, चीफ इंजीनियर श्री अश्विनी रहेजा, गुरुग्राम के एससी श्री पीके चौहान, चीफ इंजीनियर,हिसार श्री नवीन कुमार वर्मा व विभाग के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।




Source

What do you think?