in

हरियाणा सरकार ने प्रदेश में कोविड-19 रोगियों, जिन्हें एचआरसीटी चेस्ट और अन्य लैब…


हरियाणा सरकार ने प्रदेश में कोविड-19 रोगियों, जिन्हें एचआरसीटी चेस्ट और अन्य लैब टेस्ट कराने की आवश्यकता होती है, को बड़ी राहत देते हुए लैब टेस्ट की दरों को सीमित कर दिया है। एक सरकारी प्रवक्ता ने इस संबंध में अधिक जानकारी देते हुए बताया कि एचआरसीटी चेस्ट के लिए 2100 रुपये, आईएल-6 के लिए 1,000 डी-डिमर के लिए 400 रुपये, एलडीएच के लिए 250 रुपये, सीआरपी के लिए 350 रुपये, प्रोकैल्सिटोनिन के लिए 1,500 रुपये और फेरिटिन के लिए 300 रुपये तय किए गए हैं।
प्रवक्ता ने बताया कि इन दरों में टेस्ट पर होने वाले सभी खर्च जैसे पीपीई, पैकिंग, दस्तावेज, रिपोर्टिंग और जीएसटी/कर (यदि कोई हो) शामिल हैं। हालांकि, होम कलेक्शन के मामले में, परिवहन, पीपीई किट और मैनपॉवर आदि के लिए किए गए खर्च को कवर करने के लिए उपरोक्त टेस्ट दर के अलावा, एक या एक से अधिक सैंपल लिए जाने के बावजूद, 200 रुपये प्रति घर वसूल करने की अनुमति होगी।
प्रवक्ता ने बताया कि आज तय की गई दरें पीपीपी मोड के तहत स्वास्थ्य विभाग को सेवाएं प्रदान करने वाले सीटी स्कैन केंद्रों पर लागू नहीं होंगी। इन केंद्रों पर मौजूदा दरें ही लागू रहेंगी।
इन आदेशों का पालन न करने पर आईपीसी की धारा 188 के तहत जुर्माना लगाया जा सकता है।
प्रवक्ता ने बताया कि मीडिया और अन्य माध्यमों से विभिन्न निजी अस्पतालों, डायग्नोस्टिक सेंटर और लैब्स द्वारा असमान और अत्यधिक दरों की वसूली करने की खबरों के बाद इन टेस्ट की दरों को सीमित करने का निर्णय लिया गया है।
इसलिए, उपरोक्त विषय पर विस्तार से विचार विमर्श करने के उपरांत राज्य सरकार ने महामारी रोग अधिनियम, 1897 के तहत दी गई शक्तियों का प्रयोग करते हुए, उपर्युक्त टेस्ट के लिए अधिकतम शुल्क को सीमित कर दिया है।
प्रवक्ता ने बताया कि हरियाणा सरकार कोविड-19 महामारी से निपटने के लिए विभिन्न उपाय कर रही है और प्रदेश के सरकारी अस्पतालों में मुफ्त परीक्षण और उपचार प्रदान कर रही है।


Source

What do you think?