in

हरियाणा सरकार ने मुख्यमंत्री सुशासन सहयोगी (सीएमजीजीए) कार्यक्रम के सफलता भरे पा…


हरियाणा सरकार ने मुख्यमंत्री सुशासन सहयोगी (सीएमजीजीए) कार्यक्रम के सफलता भरे पांच वर्षों को देखते हुए छठे वर्ष का बैच भी 26 जुलाई, 2021 से शुरू किए जाने की घोषणा की है, इसके लिए 21 मई 2021 से देशभर के युवा ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं।
सीएमजीजीए के कार्यक्रम निदेशक डॉ. राकेश गुप्ता ने इस बारे में जानकारी देते हुए बताया कि सीएमजीजीए कार्यक्रम राज्य की प्राथमिकताओं पर काम करने और सुशासन को आगे बढ़ाने के लिए युवाओं की ऊर्जा, रचनात्मकता और कौशल का लाभ उठाने के लिए वर्ष 2016 से अशोका विश्वविद्यालय और हरियाणा सरकार के बीच एक रणनीतिक सहयोग है।
उन्होंने बताया कि इस कार्यक्रम के तहत 25 चयनित उम्मीदवारों को हरियाणा के 22 जिलों में रखा जाएगा और वे सीधे उपायुक्त और प्रशासन के साथ मिलकर काम करेंगे ताकि सिस्टम को सुव्यवस्थित किया जा सके और उत्पादकता में वृद्धि और नागरिक सेवाओं के वितरण में वृद्धि के लिए मौजूदा संरचनाओं को सुधारने हेतु अभिनव समाधान किए जा सकें।
डॉ. गुप्ता ने बताया कि हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने एक अलग सोच के साथ वर्ष 2016 में जोश व जुनून के साथ काम करने वाले युवाओं को सरकार के साथ जोडऩे की कल्पना की थी ताकि सार्वजनिक सेवा वितरण में सुधार के लिए नागरिकों से ऑन-ग्राउंड डेटा और प्रत्यक्ष प्रतिक्रिया प्राप्त हो सके। उन्होंने बताया कि पिछले पांच वर्षों में सीएमजीजीए के युवाओं ने राज्य में कई क्रॉस-कटिंग मुद्दों पर काम किया जैसे परिवहन, शिक्षा, स्वास्थ्य और पोषण, सार्वजनिक सेवा वितरण, स्वच्छता और कोविड प्रबंधन से लेकर बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ, अंत्योदय सरल, ई-ऑफिस आदि प्रमुख योजनाओं के लिए बेहतर काम किया है। यही नहीं इन युवाओं ने अपने-अपने जिलों के उपायुक्तों के नेतृत्व में संबंधित जिले में सबसे अधिक दबाव वाले मुद्दों से निपटने के लिए कई पायलट कार्यक्रम भी किए।
सीएमजीजीए के कार्यक्रम निदेशक के अनुसार 26 जुलाई 2021 से शुरू होने वाले नए बैच को हरियाणा में शिक्षा, स्वास्थ्य और पोषण, महिला सुरक्षा और सार्वजनिक सेवा वितरण के तहत नए और वर्तमान प्रमुख कार्यक्रमों पर काम करने का अवसर मिलेगा। उन्होंने बताया कि कोरोना वायरस के प्रकोप के बावजूद सीएमजीजीए के वर्तमान बैच 2020-21 ने अपने-अपने जिला प्रशासन का साथ देकर महत्वपूर्ण प्रगति और उपलब्धियों को अद्वितीय सहयोग के साथ हासिल किया है। सीएमजीजीए ने कोविड-19 संकट प्रबंधन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हुए प्लाज्मा दान, राशन वितरण और मोबाइल एप्लिकेशन डिजाइन कर प्रदेश के नागरिकों को सरकार की सुविधाओं का लाभ देने के लिए विशेष कार्य किया है।
डॉ. राकेश गुप्ता ने बताया कि नए बैच के इन सीएमजीजीए को जहां सरकार के साथ काम करने का प्रत्यक्ष अनुभव होगा वहीं उनके व्यावसायिक विकास को सुनिश्चित करने के लिए इस कार्यक्रम में एक संरचना निर्धारित की गई है। यह कार्यक्रम ‘इनोवेट,लर्न एंड ग्रो’ दृष्टिïकोण का सम्मिश्रण है। इस मिश्रित दृष्टिकोण के कारण सीएमजीजीए कार्यक्रम के प्रति युवाओं के बीच जबरदस्त क्रेज बना है। उन्होंने बताया कि पिछले साल देश के 15 से अधिक राज्यों से कुल 2600 से अधिक आवेदन प्राप्त हुए थे। यह संख्या हर साल बढ़ती ही जा रही है।
अशोका विश्वविद्यालय के सह-संस्थापक और ट्रस्टी श्री विनीत गुप्ता ने बताया कि सीएमजीजीए की शुरुआत वर्ष 2016 में एक प्रयोग के रूप में हुई थी, अब सरकारी हितधारकों के साथ-साथ युवाओं के बीच भी इसकी सफलता-दर जबरदस्त रही है। पिछले पांच वर्षों में प्राप्त आवेदनों की संख्या उल्लेखनीय रही है जिससे प्रतिस्पर्धा के स्तर में भी वृद्धि हुई है और इसके परिणामस्वरूप चयन अनुपात 100 :1 है। एक जटिल प्रक्रिया के बाद 25 आवेदकों का चयन किया जाता है। उन्होंने बताया कि पिछले पांच वर्षों में कुल 120 सीएमजीजीए सहयोगियों ने अपने काम की बदौलत हरियाणा के कई क्षेत्रों में एक ठोस प्रभाव डाला है।
उन्होंने आगे जानकारी दी कि बताया कि सीएमजीजीए कार्यक्रम के छठे बैच के लिए आवेदन प्रक्रिया 21 मई, 2021 से शुरू हो जाएगी, इसमें देश भर के युवा ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। साक्षात्कार भी जून में ऑनलाइन आयोजित किए जाएंगे और अंतिम रूप से चयनित उम्मीदवार 26 जुलाई, 2020 से काम शुरू कर देंगे।
अधिक जानकारी के लिए इच्छुक उम्मीदवार 9717031645 या 8287670035 पर कॉल कर सकते हैं या [email protected] ई-मेल कर सकते हैं।


Source

What do you think?