in

हरियाणा स्वास्थ्य सेवाएं विभाग की महानिदेशक डॉ वीना सिंह ने मीडिया प्रतिनिधियों …


हरियाणा स्वास्थ्य सेवाएं विभाग की महानिदेशक डॉ वीना सिंह ने मीडिया प्रतिनिधियों से अनुरोध किया है कि अपने प्रकाशन के माध्यम से टीबी मुक्त भारत की आवाज़ को जन-जन तक पहुचाएं ताकि इस जागरूकता से टीबी से बचाव तथा टीबी पर काबू किया जा सके।
स्वास्थ्य विभाग की महानिदेशक डा. वीना सिंह आज राज्य टीबी उन्मूलन समिति पंचकुला द्वारा वर्चुअल माध्यम से टीबी रोग उन्मूलन को लेकर जिला सूचना एवं जनसंपर्क अधिकारियों, विभिन्न समाचार पत्रों एवं टेलीविजन जर्नलिस्टों की वर्कशॉप को संबोधित कर रही थी। बैठक में अतिरिक्त निदेशक डा. वी के बंसल व डा. अनुज जांगड़ा भी मौजूद थे।
महानिदेशक ने कहा कि केंद्र सरकार की ओर से वर्ष 2025 तक टीबी यानी ट्यूबरक्लोसिस जैसी खतरनाक बीमारी को खत्म करने का संकल्प लिया गया है। प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी द्वारा ’टीबी हारेगा-देश जीतेगा’ का नारा दिया गया है। इसी संकल्प को पूरा करने के उद्देश्य से स्वास्थ्य विभाग द्वारा गंभीरता व योजनाबद्ध तरीके से कार्य किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि टीबी रोग को जड़मूल से खत्म करने के लिए सामूहिक संकल्प के साथ धरातल पर काम करना होगा। इसके साथ-साथ स्लम एरिया, ईंट-भट्टे, मजदूर कॉलोनियों व जिला जेल पर फोकस किया जाए ताकि कोई भी टीबी रोग पीडि़त उपचार से वंचित न रहे।
स्वास्थ्य सेवाएं विभाग के अतिरिक्त निदेशक डा. वी के बंसल ने कहा कि प्रदेश में टीबी रोग को लेकर सरकार पूरी तरह से गंभीर है तथा इस पर काबू पाने के लिए महत्वपूर्ण कदम उठाए जा रहे हैं। हरियाणा सरकार द्वारा मुफ्त जांच व मुफ्त इलाज़ , मुफ्त दवाए और इलाज़ के दौरान 500 रुपए पोषण भत्ता हर महीने दिया जाता है, टीबी के नए मरीज़ को सरकारी हॉस्पिटल पर रैजिस्टर्ड करवाने वाले को 500 रुपये प्रोत्साहन भत्ता आदि मिलता है। उन्होंने आहवान किया कि टीबी मुक्त भारत के मिशन की सफलता के लिए समाज का हर वर्ग आगे आकर अपना सहयोग व योगदान दें और ग्रामीण स्तर पर प्रचार-प्रसार के माध्यम से नागरिकों को टीबी उन्मूलन के बारे में जागरूक करें।
विश्व स्वास्थ्य संगठन के कंसलटेंट डॉ अनुज जांगडा द्वारा प्रेजेंटेशन के माध्यम से राज्य टीबी उन्मूलन कार्यक्रम के बारे अवगत कराया गया।
इस कार्यक्रम मे राज्य टीबी उन्मूलन समिति हरियाणा की डॉ सुषमा अरोड़ा, डॉ वर्षा, डॉ अंजलि अरोड़ा, डॉ रीटा कालरा, एसएमओ नागरिक हॉस्पिटल, श्रीमति सरिता, आईईसी ऑफिसर व अन्य कर्मचारी जुड़े थे ।


Source

What do you think?