भीष्म कुंड (5/5)

हरियाणा की भूमि वीरों की भूमि मानी जाती है और कुरुक्षेत्र जैसे बड़े-बड़े युद्ध यहां पर हुए हैं। अब हम बात करें भीष्म कुंड की तो भीष्म कुंड थानेसर में नरकटरी में स्थित है। वह इसे भीष्म पितामह का कुंड भी कहा जाता है। जब भीष्म पितामह को तीरों के शैय्या पर लिटाया तब उन्हें कौरवों और पांडवों ने घेर लिया था।

तीरों की शैय्या पर लेटे हुए उन्हें प्यास लगी और उन्होंने पीने के लिए पानी की मांग की। तब अर्जुन ने जमीन पर तीर को मारा था और वहां से पानी की धार निकली थी, जिससे भीष्म पिता की प्यास बुझ गई थी। आज उस जगह को भीष्म पितामह के कुंड के नाम से जाना जाता है। जो कुरुक्षेत्र में नरकटरी में स्थित है इसके पास ही छोटा सा मंदिर है जो वाकई देखने के लायक है।