हरियाणा से जुड़ी संगीत और नृत्य कला (5/5)

भारत के विभिन्न राज्यों में विभिन्न प्रकार की संगीत और नृत्य कला देखने को मिलती है और यदि बात करें हरियाणा की तो हरियाणा की भी संगीत और नृत्य से जुड़ी खुद की एक अलग पहचान है। जिसमें हरियाणा के परंपरागत नृत्य में गणगौर, झूमर, खोरिया नृत्य, फाग, दाफ, लूर, धमाल आदि को शामिल किया जाता है।

वहीं दूसरी ओर यदि बात करें संगीत कला की तो इसमें शास्त्रीय संगीत और लोकगीत जो के ग्रामीण जीवन से जुड़े होते है इनको भी काफी पसंद किया जाता है। जिसमें पहाड़ी पद्धति का राग, भैरवी राग, और मल्हार राग यहां के लोगों द्वारा काफी पसंदीदा तौर पर चुना जाता।

इसके साथ साथ ढोल, डमरू, मटका, सारंगी, हारमोनियम, शहनाई, मंजीरा, नगाड़ा, घुंगरू, और खंजीरी आदि नृत्य साहित्य से जुड़े संगीत कला और कलाकार इस राज्य में उपलब्ध है।